अंग्रेजी में लिखित “गुरु श्री जांभोजी एंड शब्दवाणी” ग्रंथ का विमोचन

(मुकेश सामराऊ न्युज नेटवर्क)
बीकानेर/ जांभाणी साहित्य अकादमी द्वारा जय नारायण व्यास कॉलोनी स्थित अपने मुख्यालय पर ” पुस्तक विमोचन” एवं “अभिनंदन समारोह” रखा गया, जिसमें कैलगिरी विश्वविद्यालय केनेडा के प्रोफेसर एमरेटर्स डॉक्टर पृथ्वीराज बिश्नोई द्वारा अंग्रेजी में लिखित” गुरु श्री जांभोजी एंड सब्दवाणी”ग्रंथ का विमोचन किया गया।
इस समारोह के मुख्य अतिथि राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश श्री विजय विश्नोई थे।समोराह की अध्यक्षता श्री हिराराम भावल एडवोकेट अध्यक्ष, अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा ने की। राजस्थानी भाषा साहित्य एवं संस्कृति अकादमी के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर सोनाराम विश्नोई और रुड़कली के श्रीमहत शिवदास जी शास्त्री विशिष्ट अतिथि के रुप में सम्मिलित हुए।
समोराह में स्वागत भाषण देते हुए अकादमी की संरक्षिका डॉक्टर सरस्वती विश्नोई ने कहा कि गुरु जंभेश्वर भगवान की वाणी का संपूर्ण अंग्रेजी अनुवाद कर डॉ पृथ्वीराज जी ने हम सबकों लाभान्वित व गौरवान्वित किया है, इसलिए जांभाणी साहित्य अकादमी आपका अभिनंदन करती है। श्रीमती बिश्नोई ने आगे कहा कि इस पुस्तक में गुरु जांभोजी की वाणी संपूर्ण विश्व में प्रसारित होगी, जिससे विश्व भी उनकी उपयोगी शिक्षा का लाभ उठा सकेगा। समोराह के अध्यक्ष श्री हीराराम भवाल एडवोकेट ने कहा कि इस पुस्तक के माध्यम से एक चिर प्रतीक्षित मांग पूरी हुई है। अहिंदी भाषी लोगों में गुरु जांभोजी की वाणी के प्रसार का द्वार खुल गया है। आपने संपूर्ण समाज की ओर से लेखन महोदय को धन्यवाद दिया।
पुस्तक के लेखक डॉक्टर पृथ्वीराज जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि गुरु जांभोजी की वाणी बहुत ही गूढ़ गंभीर है।उसने मानव जीवन की सभी समस्याओं का समाधान नीहित है। इस वाणी का प्रचार प्रसार पूरी मानवता के लिए लाभकारी है ,परंतु इसका अंग्रेजी अनुवाद न होने के कारण इसका प्रचार प्रसार नहीं हो सका। आने वाली पीढ़ियां और विश्व गुरु जांभोजी के विचारों से अवगत हो सके,इसलिए मैने यह कार्य किया। मुख्य अतिथि जस्टिस विजय बिश्नोई ने कहा कि गुरु जाम्भोजी की वाणी का अनुवाद की डॉक्टर बिश्नोई ने वैश्विक प्रचार प्रसार का द्वार खोल दिया हैं।अब इनके अन्य भाषाओं का अनुवाद की राय प्रशस्त हुई है। लेखक और प्रकाशन इनके लिए बधाई के पात्र हैं। समोराह में डॉक्टर सोनाराम विश्नोई,श्री कृष्ण लाल जी बिश्नोई ,डॉक्टर ओम प्रकाश भादू, श्री आर के बिश्नोई ,श्रीमहत शिवदास शास्त्री,सेवक दल के अध्यक्ष श्री रामसिंह कस्वा ने पुस्तक पर अपने विचार रखें । मंच संचालन अकादमी के महासचिव डॉ सुरेंद्र कुमार बिश्नोई ने किया तथा सभी को धन्यवाद ज्ञापित अकादमी के उपाध्यक्ष डॉ बनवारी लाल साहू ने किया। इस अवसर पर प्रमुख समाज सेवी श्री राजाराम धारणिया, श्री रामस्वरूप धारणिया, युवा नेता बिहारी लाल बिश्नोई ,अकादमी के उपाध्यक्ष इंदिरा विश्नोई,सचिव मूलाराम लोल, सूबेदार केहराराम,श्री मांगीलाल अज्ञात, श्री शिवराज जाखड़ ,पूर्व प्रधान श्री सहीराम भादू सहित बड़ी संख्या में साहित्य प्रेमी उपस्थित थे

FB_IMG_1522198966024.jpg

 

Updated: March 28, 2018 — 8:57 am
बिश्नोई समाचार © 2018 Designed by SAGAR BISHNOI