किसानो के समर्थन में धरना स्थल पर पँहुची विधायक बिशनोई

(मुकेश सामराऊ न्युज नेटवर्क)
हिसारःविधायक रेनुका बिश्नोई ने आज स्थानीय लघु सचिवालय में जल संघर्ष समिति द्वारा जारी धरना स्थल पर पहुंचकर किसानों की मांगों का समर्थन करते हुए प्रदेश सरकार से किसानों का हक देने की मांग की। धरने पर बैठे किसानों की मांग नहीं, बल्कि वह उनका हक है। उन्होंने कहा कि जब से राज्य में भाजपा सरकार बनी है किसानों पर अत्याचार हो रहा है। कृषि विरोधी नीतियां थोपी जा रही है, जिससे राज्य में किसानों के लिए मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। आदमपुर एवं नलवा क्षेत्र के हजारों किसान पानी की मांग को लेकर सड़क पर उतरने को अगर आज मजबूर हुए हैं, तो इसके लिए भाजपा नेताओं की वायदाखिलाफी जिम्मेवार है। विधायक ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री चौ. भजनलाल के शासनकाल में क्षेत्र की नहरों में महीने में तीन-तीन हफ्ते पानी चलता था। किसान वर्ग खुशहाल था और किसानों को नहरी सिंचाई पानी तथा पीने को स्वच्छ पेयजल की कोई कमी नहीं थी। 2001 में तत्कालीन इनेलो सरकार ने क्षेत्र के किसानों के साथ भेदभाव बरतते हुए नहरों में मात्र एक सप्ताह ही पानी छोड़ा। भाजपा ने चुनावों में वायदा किया था कि सरकार बनने के बाद महीने में कम से कम दो सप्ताह नहरों में पानी दिया जाएगा। सरकार बनते ही भाजपा अपने वायदे से मुकर गई, जिसके बाद किसानों ने आंदोलन किया। कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने किसानों से फिर वादा किया कि जल्द ही दो सप्ताह नहरों में पानी छोड़ा जाएगा, परंतु वायदाखिलाफी भाजपा नेताओं की पहचान रही है। रेनुका बिश्नोई ने इसके उपरांत नलवा एवं हांसी में अनेक कार्यक्रमों में भाग लिया।

रेनुका बिश्नोई ने कहा कि नहरी सिंचाई पानी की कमी होने तथा टेलों तक पानी न पहुंच पाने के कारण किसानों की फसलें सूख रही हैं और जमीन बंजर होती जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग स्वच्छ पेयजल के लिए तरस रहे हैं। जो सरकार लोगों को बिजली, पानी जैसी बुनियादी जरूरतें ही उपलब्ध करवाने में नाकाम हो, उसको सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। आने वाले चुनावों में जनता भाजपा से हिसाब मांगेगी। रेनुका बिश्नोई ने किसानों को हर संघर्ष में कंधे से कंधा मिलाकर साथ देने का आश्वासन देते हुए कहा कि चौ. कुलदीप बिश्नोई ने हमेशा किसान हितों को लेकर संघर्ष किया है। क्षेत्र के किसानों की मांग उन्होंने पहले भी विधानसभा में उठाई और पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं संबंधित मंत्रियों पर वे पिछले तीन वर्षों से लगातार दबाव बना रहे हैं, परंतु भाजपा हिसार क्षेत्र के साथ हर स्तर पर भेदभाव बरत रही है। रेनुका बिश्नोई ने कहा कि धरती का सीना चीरकर अपने खून, पसीने से सोना उगाने वाला किसान आज सरकारी उपेक्षा से बदहाली की कगार पर खड़ा है। एसवाईएल का पानी लाने की बातें करने वाली भाजपा सरकार पहले से बनी नहरों को पाट रही हैं। पिछले तीन वर्षों भाजपा ने एक के बाद एक किसानों के विरूद्ध निर्णय लिए हैं। स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट ठंडे बस्ते में डालने की बात हो, खाद, बीज की कमी हो, फसलों का उचित समर्थन मूल्य न मिलना हो, प्राकृतिक आपदा से प्रभावित किसानों को मुआवजा न मिलना हो या फिर टेलों तक पानी न पहुंचा पाना हो भाजपा ने किसानों को मारने वाली नीतियां लागू की हैं। विधायक ने कहा कि राज्य में भाजपा से प्रताडि़त हर वर्ग कांग्रेस की ओर देख रहा है और 2019 के चुनावों में हरियाणा से भाजपा का सफाया तय है। उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर क्षेत्र में वही चौ. भजनलाल के शासनकाल की तरह नहरों में तीन-तीन सप्ताह पानी छोड़ा जाएगा और किसानों के हित में नीतियां लागू की जाएंगी। इस दौरान पूर्व सांसद पं. रामजीलाल, रणधीर सिंह पनिहार, संजय गौतम, सूबे सिंह आर्य, जयवीर गिल, बलदेव खोखर, सुभाष टाक, अजय जांगड़ा, देवेन्द्र सैनी, दलबीर सलेमगढ़, संदीप ज्याणी, विरेन्द्र बामल, सियाराम सरपंच, शिवांस बिश्नोई आदि उपस्थित थे।

 

FB_IMG_1516700899644